सूक्ष्म यात्रा का अनुभव करें
निःशुल्क पुस्तक

सभी मानव सूक्ष्म आयामों पर जाते हैं जब भौतिक शरीर सो रहा होता है। इस प्रक्रिया को हमारी सचेतनता में करना और जब हम हमारे शरीर में वापस आएँ तब हमारी स्मृति को भी वापस लाना सीखना जरूरी है। लोगों के आध्यात्मिक विकास के लिए सूक्ष्म अनुभव बहुत महत्वपूर्ण हैं।

https://youtu.be/UVR5tgTX-x0

सचेत सूक्ष्म प्रक्षेपण, एक क्षमता जिसे जल्द ही विकसित करने की आवश्यकता है।

एक महान आध्यात्मिक इच्छा वाले हजारों लोग पुस्तकों को पढ़ने और विविध सिद्धांतों से अपने मन को भरने के लिए संतुष्ट हैं, जैसे कि वे केवल बुद्धि के माध्यम से अपनी चेतना और संकायों के विकास को हांसील करना चाहते थे। इस तरह, कई शुरुआती लोग सच्चे ज्ञान के द्वार बंद कर देते हैं।

ज्ञान के किसी भी माहिर द्वारा दिए गए मार्गदर्शन का पहला हिस्सा यह है कि हमें व्यावहारिक बनने की आवश्यकता है। इन समयों में सभी आध्यात्मिक लोग और संगठन जो व्यावहारिक नहीं हैं, गुमनामी में चले जाएंगे। उन्हें पीछे छोड़ दिया जाएगा क्योंकि वहाँ आध्यात्मिक रूप से कोई उपयोग नहीं होगा। अब 21 वीं सदी में सिद्धांत और अटकलों का समय खत्म हो गया है। अगर हम वास्तव में सच्चे ज्ञान की पहुँच के लिए तृष्णा रखते हैं तो हमें व्यावहारिक बनना अति आवश्यक है।

Astral

आध्यात्मिक पथ के साथ हमारी मदद करने वाले संकायों में से एक है सचेत सूक्ष्म प्रक्षेपण। वे सभी जो सूक्ष्म प्रक्षेपण शुरू करते हैं, वे स्वयं का मार्गदर्शन करना शुरू करेंगे और दूसरों का मार्गदर्शन करने की तैयारी करेंगे; क्योंकि मानवता की यही आवश्यकता है: मार्गदर्शक।

जब भौतिक शरीर सो रहा होता है, तब सभी मनुष्य सूक्ष्म आयाम में जाते हैं। यहां तक कि जानवर भी हर रात सोते समय सूक्ष्म आयाम में जाते हैं। दुर्भाग्य से, हम उन सभी प्रक्रियाओं के बारे में नहीं जानते हैं और हम सोती हुई चेतना के साथ उस आयाम में भटकते हैं, और सभी एक ही प्रकार की गतिविधियों और व्यवहार करते हैं जो हम दैनिक जीवन में करते हैं।

सूक्ष्म प्रक्षेपण को सीखना अत्यावश्यक है। जब कोई व्यक्ति अपने भौतिक शरीर को अपनी इच्छा से, सचेत रूप से, छोड़ना सीखता है, तो वे स्वामी के साथ आमने-सामने बात कर सकते हैं, वे गुप्त शिक्षाएं प्राप्त कर सकते हैं या मंदिरों में जा सकते हैं, इत्यादि। उस आयाम में हम अपनी समस्याओं, अपने भविष्य और अतीत को भी जान सकते हैं। यह वास्तव में सरल और त्वरित तरीका है क्योंकि वहां पर हम समय से परे होते हैं। हालांकि, यह सब प्राप्त करने के लिए हमें व्यावहारिक होना चाहिए और मान्यताओं को एक तरफ छोड़ देना चाहिए।

क्या आप सूक्ष्म प्रक्षेपण सीखना चाहते हैं?

“हरकोल्युबस या लाल ग्रह” नामक छोटी पुस्तक में लेखक, वी. एम. राबोलू, सचेत सूक्ष्म प्रक्षेपण को प्राप्त करने की तकनीक सिखाते है।

एक बेहतर समझ पाने के लिए, आप इस पुस्तक में वर्णित मंत्रों के सही उच्चारण को सुन सकते हैं।

फा रा ओन

ला रा स

वी. एम. राबोलु के द्वारा समझाई गई प्रणाली के साथ, कोई भी सूक्ष्म यात्रा का अनुभव कर सकता है।

हम आध्यात्मिक तृष्णा वाले हर व्यक्ति को हररोज, एक भी रात को गवाए बिना उस अभ्यास को करने के लिए आमंत्रित करते हैं। हम यह स्पष्ट करते हैं कि इसमें किसी भी प्रकार का जोखिम नहीं है क्योंकि यह केवल वही क्रिया एक सचेत तरीके से करने की बात है जो हम हर रात अचेतन रूप से और अनजाने में करते हैं।

आल्सीऑन एसोसिएशन इस पुस्तक को मुफ्त में प्रदान करता है। इसके लेखक हमारे दोषों, हमारी कुरीतियों और दुष्टता, जो कि सभी मानव पीड़ाओं का प्राथमिक कारण है उन्हें खत्म करने की विधि भी सिखाते है, और इस पूरी मानवजाति के लिए आने वाले भविष्य के बारे में हमें चेतावनी देते है।

यदि आप इस ग्रह का अंत देखना चाहते हैं, तो आप इसे रात को सोते समय कर सकते हैं। […] हमें बहुत विश्वास की आवश्यकता है। सूक्ष्म प्रक्षेपण का अभ्यास करते समय हमें बहुत विश्वास होना चाहिए, हम क्या कर सकते हैं उसमें कभी भी संदेह नहीं होना चाहिए, लेकिन आश्वस्त रहें कि इस रात आप इसे प्राप्त करेंगे।

वी. एम. राबोलु